logo
img

विवरण

मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना के तहत स्लम क्षेत्रों में गरीब एवं जरूरतमंदों तक अब बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाओं की दस्तक पहुंची है और अब वे इस योजना से लाभान्वित हो रहे है। श्रीमती सावित्री भारद्वाज ने कहा मैैं एक गृहणी हूं तथा मेरे पति हमाली का काम करते है, घर में सास-ससुर और मेरा एक छोटा बच्चा है, जिसकी देखभाल मुझे ही करनी होती है। खुद के छोटे-मोटे बीमारी के लिए अस्पताल तक जाकर ईलाज करवाने में काफी समय लग जाता है। ऐसे में मेरे मोहल्ले में मोबाईल मेडिकल यूनिट के आने से ना केवल उचित ईलाज मिल रहा है, बल्कि समय की बचत भी हो रही है, जिससे मैं अपनी पारवारिक जिम्मेदारियों का भी अच्छे से निर्वहन कर पा रही हूं। स्वास्थ्य कैम्प में वह अपने गर्भावस्था की रूटिन जांच के लिए आयी हुई थी। उन्होंने मुख्यमंत्री जी को ऐसी जनोन्मुखी योजना के लिए ढेरो धन्यवाद एवं शुभकामनाएं दी। साथ ही खुशी जाहिर करते हुए कहा कि यह तो ऐसा है कि मुख्यमंत्री जी ने स्वास्थ्य सुविधाओं को मेरे घर का पता ही दे

मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना के तहत स्लम क्षेत्रों में गरीब एवं जरूरतमंदों तक अब बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाओं की दस्तक पहुंची है और अब वे इस योजना से लाभान्वित हो रहे है। श्रीमती सावित्री भारद्वाज ने कहा मैैं एक गृहणी हूं तथा मेरे पति हमाली का काम करते है, घर में सास-ससुर और मेरा एक छोटा बच्चा है, जिसकी देखभाल मुझे ही करनी होती है। खुद के छोटे-मोटे बीमारी के लिए अस्पताल तक जाकर ईलाज करवाने में काफी समय लग जाता है। ऐसे में मेरे मोहल्ले में मोबाईल मेडिकल यूनिट के आने से ना केवल उचित ईलाज मिल रहा है, बल्कि समय की बचत भी हो रही है, जिससे मैं अपनी पारवारिक जिम्मेदारियों का भी अच्छे से निर्वहन कर पा रही हूं। स्वास्थ्य कैम्प में वह अपने गर्भावस्था की रूटिन जांच के लिए आयी हुई थी। उन्होंने मुख्यमंत्री जी को ऐसी जनोन्मुखी योजना के लिए ढेरो धन्यवाद एवं शुभकामनाएं दी। साथ ही खुशी जाहिर करते हुए कहा कि यह तो ऐसा है कि मुख्यमंत्री जी ने स्वास्थ्य सुविधाओं को मेरे घर का पता ही दे दिया है। इसी प्रकार राजमिस्त्री का कार्य करने वाले श्री गज्जू चौहान अपने पुत्र चंद्रशेखर की त्वचा की समस्या व पत्नी रजनी के पैरों के दर्द के ईलाज के लिए स्वास्थ्य कैम्प पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि मेरा काम दिहाड़ी में चलता है, ऐसे में अस्पताल जाने से अपने आधे या एक दिन का काम छोडऩा पड़ता है, अब मोहल्ले में स्वास्थ्य कैम्प लगने से बेहतर ईलाज भी हो जाता है और आजीविका चलाने के लिए रोजी पर भी असर नहीं पड़ता है। उन्होंने इस योजना को स्लम क्षेत्रों के लिए वरदान बताया। 57 वर्षीय मालती यादव जिन्हें पेट में दर्द की समस्या थी। वह खुद ही स्वास्थ्य कैम्प आकर अपना ईलाज करवायी और कहा कि यह बहुत अच्छी व्यवस्था मुख्यमंत्री जी ने कर दी है, जिससे अब ईलाज के लिए अस्पताल तक जाने के लिए किसी पर आश्रित नहीं होना पड़ता है। पड़ोस में ही आसानी से ईलाज हो जाता है। उन्होंने मुख्यमंत्री जी को समाज के अंतिम व्यक्ति तक सीधे पहुंचने वाली इस योजना के क्रियान्वयन के लिए बधाईयां दी। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना का सुचारू रूप से क्रियान्वयन रायगढ़ नगरीय निकाय क्षेत्र में किया जा रहा है। जिसके तहत एक डॉक्टर, एक फार्मासिस्ट, एक एएनएम तथा लैब टेक्नीशियन सहित चार लोगों की टीम मोबाईल मेडिकल यूनिट ले जाकर शहर के विभिन्न वार्डाे में लोगों का निरूशुल्क ईलाज कर रहे है। इस कैम्प में बीपी, शुगर के साथ मौसमी बीमारियां जैसे सर्दी, खासी, वायरल फिवर, मलेरिया, टायफाईड, डेंगू, कोलेस्ट्राल, लेप्रोसी, टीबी आदि की जांच कर दवाए वितरित की जाती है और गंभीर मामलों को बेहतर ईलाज के लिए अस्पतालों को रिफर किया जाता है। साथ ही चिकित्सा दल द्वारा आये हुए लोगों को अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के संबंध में काऊसिलिंग कर जागरूक भी किया जा रहा है। जिससे रोगों की पहचान व ईलाज सही समय पर किया जा सके।